Bluetooth kya hai kaise kam karta hai


ब्लूटूथ के बारे मे थोड़ा बहोत तो सब कोई जानता है कि “bluetooth kya hai” कैसे काम करता हैं। आज हम इसी विषय मे विस्तार पूर्वक समझने वाले हैं, जिसको ब्लूटूथ के बारे मे जानकारी नहीं है उनको यह लेख पूरा जरूर पढ़ना चाहिए।

Bluetooth kya hai – ब्लूटूथ क्या हैं


Bluetooth एक कम दूरी का वायरलेस टेक्नोलॉजी सिस्टम हैं जो डिवाइस मे आवाज और डाटा को ट्रांस्फर करने का काम करता है।

यह IEEE 802.15.1 एक standerd मानक है, bluetooth बीना इन्टरनेट के डाटा भेज सकता है लेकिन दूसरे वायरलेस टेक्नोलॉजी ऐसा नहीं कर सकते हैं। यह अलग-अलग डिवाइस को जोड़कर WPAN (wireless personal area network) बनाता है।

ब्लूटूथ एक समय मे सात डिवाइस को जोड़ सकता है इसका रेंज 10मी. से 100मी. तक रहता है। इसका उपयोग करने में कम पावर और पैसा की जरूरत होती हैं। में डाटा भेजने की गति 720kbps माना जाता हैं।

ब्लूटूथ का इतिहास


इरिक्सन कंपनी में रेडियो प्रणाली पर काम कर रहे जाप हर्टसन ने 1994 मे इस तकनीक का नींव रखा। 1998 मे (इरिक्सन, नोकिया, तोशीबा, आई. बी. एम., इनटेल और सोनी) 6 बड़ी कंपनियों ने एक संगठन बनाया। इस ग्रुप का नाम BSIG (Bluetooth special internet group) रखा गया।


यह ग्रुप 1999 मे Bluetooth बनाने मे सफल रहा जिसका श्रेय जाप हर्टसन को जाता है। ब्लूटूथ का नाम डेनमार्क के राजा Herald Bluetooth के नाम पर रखा गया था। क्योकि वह युद्ध में दोनों राजा का समझौता कराते थे और उन्हें जोड़ने का काम करते थे।


Bluetooth kaise kam karta hai

दो डिवाइसों को आपस में जोड़ने के लिए उन device में ब्लूटूथ ऑप्शन होना चाहिए। इससे Smart phone, Computer, Speaker, printer, mouse और Camera को जोड़ सकते हैं। Bluetooth low frequency radio wave का उपयोग कम्युनिकेशन के लिये करता हैं।


इसका रेंज डिवाइस के चारों तरफ रहता हैं और यह फ्रीक्वेंसी रेंज के अंदर ही काम करता है। इसमे 2.4GHz ISM (industrial scientific and medical) स्पेक्ट्रम बैंड का उपयोग करते है जो वायरलेस डिवाइस जोड़ने मे अच्छा माना जाता हैं।


bluetooth का magnetic spectrum 2402 से 2483.5MHz लगभग 83.5MHz तक फैला रहता है। इस बैंड मे 79 चैनल रहते है प्रत्येक चैनल 1 MHz की दूरी पर रहते हैं। कम्युनि – केशन करते समय डिवाइस चैनल बदलते रहते हैं ये एक ही channel पर data नहीं भेजते हैं।


Bluetooth मे FHSS (Frequency hoping spread spectrum) technique काम करता है। 1600 hops/sec. में डाटा पैकेट को भेजता रहता हैं जो address, header, payload के रूप मे होते हैं। अगर इनमें से कोई channel खराब हो जाये तो हमारा स्मार्टफोन उसे उपयोग नहीं करता हैं।


सभी डिवाइस एक ही सिक्वेंस पर काम करते हैं जो हमारे device को सुरक्षित बनता हैं। जब device किसी पैकेट को receive नहीं कर पाता तो वह उस पैकेट को फिर से भेजता है। एक स्मार्ट फोन 1sec. मे 1million बार electro magnetic spectrum भेज सकता हैं।

नेटवर्क के आधार पर ब्लूटूथ के प्रकार

दो या दो से अधिक bluetooth device एक दूसरे से जुड़े होते है तो इसे नेटवर्क कहा जाता है। इसमे मुख्य रुप से दो एलिमेंट होते हैं।

  • Master (primary)
  • Slave (secondary)


Piconet bluetooth network

यह एक प्रकार का ब्लूटूथ नेटवर्क है इसमें 8 डिवाइस एक साथ जुड़े रहते हैं। जिसमें एक मास्टर तथा बाकी सब Slave डिवाइस होता हैं जब master device डाटा भेजता है तो सभी स्लैव डिवाइस डाटा receive करते हैं।
डायरेक्ट एक slave से दूसरे slave को डाटा का आदान- प्रदान करना सम्भव नहीं हैं। इसमे 7 active slave से ज्यादा नहीं रह सकते हैं।

Scatternet bluetooth network

इसमे एक से ज्यादा Piconet net – work के combination रहते है जिसे Scatternet network कहते हैं। pico-net मे एक स्लैव डिवाइस दूसरे पीको-नेट मे master device हो सकता हैं। इसमे डाटा भेजने पर वह slave डिवाइस जो दूसरे Piconet का master है वह अपने स्लैव डिवाइस को डाटा भेज सकते हैं।


Bluetooth ka version

Bluetooth version के हिसाब से इसका स्पीड, दूरी बदलता रहता है इसका वर्जन कुछ इस प्रकार हैं।

  • V1.2
  • V2.0
  • V3.0
  • V4.0
  • V4.1
  • V5.0


ब्लूटूथ के फायदे

  • यह तार रहित होता हैं।
  • इसका उपयोग करना सस्ता पड़ता है
  • इससे डाटा का आदान-प्रदान सुरक्षित होता हैं।
  • Files, music, photo बहोत कम समय मे भेजा जा सकता हैं।
  • इसका उपयोग करना बहोत आसान हैं।


आज आपने क्या सीखा

मैं आशा करता हू की दोस्तों आपको समझ आया होगा कि Bluetooth kya hai कैसे काम करता हैं। मैंने ब्लूटूथ के बारे मे जानकारी देने का पूरा कोशिश किया करता हू। जिससे सबको समझ मे आ जाये।

इस जानकारी को सबको शेयर करे ताकी वे लोग भी bluetooth के विषय मे अच्छे से जान सके। इस प्रकार की जानकारी पाने के लिए इस वेबसाइट को visit करते रहिए अगर कुछ छुट गया हो तो जरूर comment करिये हम पूरा कोशिश करेंगे आपको बताने के लिए धन्यवाद!!

Leave a Comment